गुरुवार, 17 अक्तूबर 2013

अहमदाबाद की सचित्र स्मृति
चेतन भाई भोजक एवं हरताल भरा खरल। हरताल एक जहरीला खनिज होता है। इससे लिखने की रोशनाई अर्थात् रंग बनता है। हरताल से पीला, हिंगुल से लाल, दीपक की कजली से काला, इसी तरह प्राकृतिक रंग बनते हैं। इसकी अपनी कला एवं शिल्पशास्त्र है।
गुरुकुल के बच्चों की घुड़सवारी
कार एवं बग्घी का मजा एक साथ

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें